पानी के गरारे व भाप से खत्म होता है वायरस

 गर्म पानी के गरारे व भाप से खत्म होता है वायरस

 गले और जाम फेफड़ों का सैनिटाइजर भाप ... लंग्स इंफेक्शन को भी रोकेगा

कोरोना वायरस सीधा गले और फेफड़ों पर अटैक कर संक्रमित कर रहा है । और मरीजों को वेंटीलेटर , बाइपेप और आक्सीजन सपोर्ट की जरूरत पड़ रही है । ऐसे में सुबह शाम पांच मिनट तक भाप लेने से वायरस को मात दे सकते है । 

डॉक्टरों के अनुसार भाप नाक के साथ गले और जाम फेफड़े में सेनिटाइजर का काम करती है । वायरस नाक और गले की म्यूकस मेम्ब्रेन के रास्ते से शरीर में प्रवेश कर फेफड़ों को संक्रमित करते हैं । 

Read more:-

        Corona vaccine                       update


भाप लेने से फेफड़े संक्रमित होने से बच जाएंगे । एक बर्तन में एक लीटर गरम पानी लेकर सिर को तोलिए से ढक लें । अब 2 से 5 मिनट तक श्वांस लें  

Read more:-

  जीवन बीमा क्या है क्यों जरूरी है

  • गर्म पानी के गरारे करना व भाप लेने से वायरस खत्म हो जाता है । गरम पानी व काढ़ा से संक्रमित व्यक्ति के न केवल संक्रमण बल्कि किसी तरह का साइड इफैक्ट भी नहीं होगा । एक तरह से रेस्पीरेटरी हाइजीन के लिए भाप जरूरी भी है ।

 -डॉ.संजीव शर्मा , कुलपति राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान मानद विश्वविद्यालय जयपुर 

  • वायरस पहले मुंह , नाक और गले के बाद में फेफड़ों में जाता है । इस दौरान गरम पानी व गरारा करने से इसकी सक्रियता कम हो जाती है , लेकिन अब । नाक के पैरानासल साइनस की आंतरिक लेयर से होकर सीधे फेफड़ों में पहुंच रहा है ।
  •  भाप में पैरानासल साइनस में छुपे वायरस को निष्क्रिय करने के साथ - साथ फेफड़ों में वायरस के जमाव को भी रोक सकता है ।

 -डॉ.वीरेन्द्र सिंह , श्वांस रोग विशेषज्ञ 

  • भाप में एक से दो चुटकी नमक डालने पर भाप का प्रभाव बढ़ जाता है । और सभी तरह के वायरस को खत्म करने की क्षमता रखता है ।

 -डॉ.नितीन शर्मा , सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन आयुर्वेद साइंसेज नई दिल्ली के पूर्व सीनियर रिसर्च ऑफिसर

  •  सुबह - शाम , गुनगुने पानी में सैंधा नमक व हल्दी डालकर गरारे करने से भी संक्रमित मरीजों को फायदा मिल सकता है । 

-डॉ.राकेश पाण्डेय , राष्ट्रीय प्रवक्ता , आयुष मेडिकल एसोसिएशन

Post a Comment

0 Comments